'ऑफिस ऑफ प्रॉफिट' मामले में चुनाव आयोग ने आम आदमी पार्टी को दिया झटका

June 24 / 2017

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी को ‘ऑफिस ऑफ प्रॉफिट’ यानि लाभ के पद मामले में चुनाव आयोग से झटका लगा है. चुनाव आयोग ने 21 विधायकों की उस याचिका को खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने केस को रद्द करने की मांग की थी. इन विधायकों की दलील थी कि चूकि दिल्ली हाईकोर्ट उनकी नियुक्ति को अवैध मानते हुए रद्द कर दिया है तो फिर इस चुनाव आयोग में केस चलाने का कोई आधार नही है. लेकिन चुनाव आयोग ने साफ कहा है कि आम आदमी पार्टी के विधायकों के खिलाफ आफिस आफ प्राफिट का केस चलता रहेगा.

चुनाव आयोग का आदेश 

आयोग ने अपने आदेश में कहा है कि विधायक 13 मार्च 2015 से 8 सितंबर 2016 तक संसदीय सचिव के पद पर रहे हैं. ऐसे में उनके पास आयी शिकायत पर सुनवाई जारी रहेगी.  दिल्ली हाईकोर्ट ने 8 सितंबर 2016 को विधायकों की संसदीय सचिव के तौर पर नियुक्ति को अवैध करार दिया था. चुनाव आयोग ने कहा है कि 21 विधायकों में से एक जरनैल सिंह ने जनवरी 2017 में इ्स्तीफा दे दिया था इसलिए उन्हे छोड़ बचे 20 विधायकों पर आफिस आफ प्राफिट का केस चलता रहेगा. चुनाव आयोग के सामने इन विधायकों के ये साबित करना होगा कि वो लाभ के पद पर नही थे. आयोग ने कहा है कि जल्द ही सुनवाई की अगली तारीख संबंधित पक्षों को बता दी जाएगी.

आम आदमी पार्टी की प्रतिक्रिया

आम आदमी पार्टी ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया करते हुए कहा है, ‘चुनाव आयोग के हालिया आदेश का गलत अर्थ नहीं निकाला जाना चाहिए. दिल्ली हाईकोर्ट ने 21 संसदीय सचिवों की नियुक्ति के आदेश को रद्द घोषित कर दिया था. इसलिए, दिल्ली हाईकोर्ट के अनुसार इस विषय के संबंध में याचिका पर सुनवाई का कोई सवाल ही नहीं बनता है. हालांकि, चुनाव आयोग ने आदेश दिया है कि वह अभी इस याचिका पर सुनवाई करेंगे. चुनाव आयोग के इस आदेश को चुनौती देने के लिए सभी उपाय उपलब्ध हैं, हम माननीय हाईकोर्ट के साथ ही माननीय चुनाव आयोग के आदेशों का सम्मान करते हैं.’

इस मामले में शिकायतकर्ता प्रशांत पटेल ने चुनाव आयोग के इस कदम पर एबीपी न्यूज़ को प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अब आम आदमी पार्टी के इन सभी विधायकों की सदस्यता का रद्द होना तय है.

क्या है पूरा मामला-

 पूरा मामला मार्च 2015 का है जब अरविंद केजरीवाल ने अपने 21 विधायकों को संसदीय सचिव बना दिया. विपक्ष ने विधायक रहते हुए इन्हें लाभ का पद देने का आरोप लगाया. प्रशांत पटेल नाम के सामाजिक कार्यकर्ता ने इसकी शिकायत राष्ट्रपति के यहां दी. अपनी पिटीशन में उन्होंने आरोप लगाया कि केजरीवाल की पार्टी के 21 विधायक संसदीय सचिव बनाए गए हैं जो कि लाभ के पद हैं. इसलिए इनकी सदस्यता रद्द की जाए. प्रशांत पटेल की ये शिकायत राष्ट्रपति ने  चुनाव आयोग के पास भेजी. चुनाव आयोग ने इस मामले की सुनवाई शुरू की.

दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार ने अपने विधायकों को बचाने के लिए इन पदों को लाभ के पद से बाहर रखने के लिए कानून भी बनाने की कोशिश की. लेकिन राष्ट्रपति ने उसे मंजूरी नही दी. दिल्ली हाई कोर्ट में केन्द्र औऱ दिल्ली सरकार की तकरार पर चल रही सुनवाई में केन्द्र ने साफ किया था कि दिल्ली में इतने संसदीय सचिव नही रखे जा सकते. इसका कोई प्रावधान नही है.  जिसके बाद  8 सितंबर 2016 को दिल्ली हाइकोर्ट ने 21 संसदीय सचिवों की नियुक्ति रद्द कर दी थी. आम आदमी पार्टी इसी आर्डर आधार पर चुनाव आयोग से केस खत्म करने की अपील कर रही थी जिसे आयोग ने खारिज कर दिया.

  Related News  

अयोध्या में योगीः हनुमान गढ़ी के बाद किए रामलला के दर्शन

Posted on 31-May-2017

यूपी के सीएम बनने के बाद योगी आदित्यनाथ पहली बार रामलला के दर्शन के लिए अयोध्या पहुंच गए हैं। अयोध्या पहुंचते...

बाबरी केस: आडवाणी-जोशी-उमा को जमानत, आरोपों पर आज आएगा फैसला

Posted on 30-May-2017

बाबरी विध्वंस मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने केस में सभी 12 आरोपियों को 20-20 हजार के निजी मुचलके पर जमानत...

हेलीकॉप्टर क्रैश में बाल-बाल बचे महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस, सभी लोग सुरक्षित

Posted on 25-May-2017

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस बाल बाल बच गए हैं. महाराष्ट्र के लातूर में सीएम देवेंद्र फडणवीस का चॉपर क्रेश हो गया है...

AAP पर 'विश्वास' बहाली के लिए कुमार की हैं ये मांगें, देर रात तक मनाने की कोशिश

Posted on 03-May-2017

आम आदमी पार्टी में छिड़े घमासान को थामने की कोशिश देर रात तक चली लेकिन स्थिति स्पष्ट होती हुई नहीं दिख रही...

राष्ट्रपति चुनाव के लिए एकजुट हुआ विपक्ष, सोनिया को कमान देने की तैयारी

Posted on 22-Apr-2017

राष्ट्रपति चुनाव में अभी समय हैं लेकिन जहां भाजपा की तैयारियां जारी है वहीं विपक्षी दल भी कमर कस रहे हैं। पिछले दिनों...

यूपी में रोकी गई समाजवादी पेंशन, निशाने पर अखिलेश का साइकिल ट्रैक भी

Posted on 12-Apr-2017

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिलेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना समाजवादी पेंशन पर फिलहाल रोक लगा दी है...

देर रात CM योगी का फैसलाः मिलेगी 24 घंटे बिजली, योजनाओं से हटेगा समाजवादी का ठप्पा

Posted on 07-Apr-2017

यूपी में योगी आदित्यनाथ सरकार जबरदस्त एक्शन में नजर आ रही है। गुरुवार रात 9 बजे से शुरू हुई सरकार की एक अहम बैठक...

CM योगी की सभी प्रधान सचिवों के साथ बैठक, खड़े होकर दिलाई ईमानदारी की शपथ

Posted on 20-Mar-2017

उत्तर प्रदेश सरकार का कामकाज संभालने के बाद सोमवार को योगी आदित्यनाथ सरकार का पहला दिन है. पहले दिन आदित्यनाथ...

अविवाहित मुख्यमंत्रियों के क्लब में शामिल हुए योगी, बीजेपी का कुनबा भी बढ़ा

Posted on 20-Mar-2017

अविवाहित मुख्यमंत्रियों के क्लब में योगी आदित्यनाथ के रूप में एक नया सदस्य शामिल हो गया है. उन्होंने रविवार को मुख्यमंत्री...

यूपी सीएम के लिए बैठकों का दौर जारी, मनोज सिन्हा ने कहा- नहीं हूं रेस में शामिल

Posted on 18-Mar-2017

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के लिए केंद्रीय रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा का नाम लगभग तय माना जा रहा है। शनिवार को भाजपा...